Tuesday, June 14, 2011

plitical dairy of seoni disst. of M.P.

केवलारी के प्रभारी बनने के बाद दूसरे ही प्रवास में राजा भोज प्रतिमा अनावरण के मंच पर एक साथ दिखे गौरी और हरवंश





इस क्षेत्र के तीनों पार्षदों दलीय भावना से परे हटकर इस आन्दोलन को संचालित किया। इसमें सर्वाधिक चर्चित मामला क्षेत्र में सालों से बन रही पानी की टंकी हैं जिसमें ठेकेदार को बिना काम शुरू किये ही भारी धनराशि दे दी गई थी। केवलारी विधानसभाक्षेत्र के ग्राम मोहबर्रा में राजा भोज की प्रतिमा के अनावारण का कार्यक्रम सियासी हल्कों में चर्चित हैं। इस कार्यक्रम में प्रदेश भाजपा द्वारा केवलारी क्षेत्र के प्रभारी बनाये गये मन्त्री गौरीशंकर बिसेन और क्षेत्रीय इंका विधायक और विस उपाध्यक्ष हरवंश सिंह भी अतिथि के रूप में उपस्थित थे। सामाजिक आयोजन में हरवंश सिंह को बुलाने को लेकर भारी बवाल भी मचा था। पिछले बीसों सालों से मोहबर्रा गांव की पहचान वहां के वरिष्ठतम इंका नेता झुम्मक लाल बिसेन के कारण रही हैं। लेकिन इस कार्यक्रम में हरवंश सिंह के कारण उन्हें बहुत नीचा देखना पड़ा। अब इस सब के पीछे इंका और भाजपा के इन दो महारथियों की क्या रणनीति रहीर्षोर्षो इसके बाबद अभी कुछ भी कहना सम्भव नहीं हैं। एक तरफ बाबा के समर्थकों के साथ ही भाजपा के लोगों ने भी अनशन मेंं भागीदारी की हैं। जिलेके प्रमुख समाजवादर नेता वरिष्ठअधिवक्ता राजेन्द्र गुप्ता एवं नरेन्द्र अग्रवाल भी अपने साथियों के साथ धरने में शामिल हुये। विस उपाध्यक्ष हरवंश सिंह ने भी बाबा को रामलीला मैदान में कार्यवाही के बाद समझाइश देने का खुलासा किया हैं।





भेरौगञ्ज में ग्यारह दिन चला धरना-नगरीय क्षेत्र की श्रीलंका मानी जाने वाली उप नगरी भेरौगञ्ज के नागरिकों ने एक समिति बना कर सोमवारी चौक में धरना दिया। समिति के अध्यक्ष महेश उर्फ मन्दरा डहेरिया बनाये गये थे। 11 दिनों तक चले इस धरने में पालिका के उपाध्यक्ष राजिक अकील ने सक्रिय भूमिका निभायी। इस क्षेत्र के तीनों पार्षदों दलीय भावना से परे हटकर इस आन्दोलन को संचालित किया। इसमें सर्वाधिक चर्चित मामला क्षेत्र में सालों से बन रही पानी की टंकी हैं जिसमें ठेकेदार को बिना काम शुरू किये ही भारी धनराशि दे दी गई थी। बताया जाता हैं कि यह ठेकेदार तत्कालीन सहायक ख्न्त्री डी. आदित्य कुमार का खास था जिसे सांठ गांठ और भारी लेन देन करके पैसा दे दिया गया। परिषद जिस ठेकेदार के कारण परेशानी में पड़ी हैं उसे पैसा दिलाने में अहम भूमिका निभाने वाले आदित्य कुमार के खिलाफ ना जाने क्यों कोई कार्यवाही नहीं कर रही हैं र्षोर्षो इस परिषद के कार्यकाल में यह पहला जन आन्दोलन था। सिवनी की जनता आन्दोलित हो जाये तो इसे गम्भीरता से लेना चाहिये क्योंकि यहाँ के लोग बहुत अधिक सहनशील हैं। ऐसे लोग यदि सड़क पर उतर आयेेंं तो इसे नकारना घातक हो सकता हैं। वैसे पालिका प्रशासन ने 11 वें दिन अनशन को समाप्त कराने में तो सफलता हासिल कर ली हैं लेकिन यदि मांगों को पूरा करने की दिशा में कोई ठोस कार्यवाही नहीं की गई तो यह लावा फिर कभी भी फूट सकता हैं।





राजा भोज की प्रतिमा अनावरण के कार्यक्रम में गौरी:हरवंश एक मंच पर दिखे-केवलारी विधानसभाक्षेत्र के ग्राम मोहबर्रा में राजा भोज की प्रतिमा के अनावारण का कार्यक्रम सियासी हल्कों में चर्चित हैं। इस कार्यक्रम में प्रदेश भाजपा द्वारा केवलारी क्षेत्र के प्रभारी बनाये गये मन्त्री गौरीशंकर बिसेन और क्षेत्रीय इंका विधायक और विस उपाध्यक्ष हरवंश सिंह भी अतिथि के रूप में उपस्थित थे। इस आयोजन में सिर्फ हरवंश सिंह ही गैर पवार नेता थे अन्यथा सभी नेता समाज के ही थे। सामाजिक आयोजन में हरवंश सिंह को बुलाने को लेकर भारी बवाल भी मचा था। पिछले बीसों सालों से मोहबर्रा गांव की पहचान वहां के वरिष्ठतम इंका नेता झुम्मक लाल बिसेन के कारण रही हैं। वे लम्बे समय से कांग्रेस की राजनीति में सक्रिय रहें हैं और उन्हें बहुत सम्मान की नज़रों से देखा जाता हैं। वे पार्टी में भी कई पदों पर रहें हैं और केवलारी जनपद पंचायत के अध्यक्ष तथा पहली जिला पंचायत के उपाध्यक्ष भी रहें हैं। लेकिन इस कार्यक्रम में हरवंश सिंह के कारण उन्हें बहुत नीचा देखना पड़ा। बताया जाता हैं पैसा फेंक तमाशा देखने के आदी हरवंश सिंह ने झुम्मक भाऊके पास पचास हजार रूपये भेज दिये और कार्यक्रम में आने का आग्रह भी किया। भोले भाले झुम्मक भाऊ ने चाल समझी नहीं और उन्हें आमन्त्रित कर लिया। जब समाज में यह बात पता चली तो इसका भारी विरोध हुआ और निZविवादित रहने रहने वाले झुम्मक भाऊ विवाद में आ गये। बताया जाता हैं कि समाज के दवाब के चलते उन्हें ना केवल इस बात के लिये माफी मांगनी पड़ी वरन उन्होंने वे पैसे भी दे दिये कि आप लोगों को जैसा उचित लगे वैसा करें। समाज के एक बुजुर्ग का मान रखने के लिये लोग इस बात के लिये सहमत हो गये।राजनैतिक क्षेत्रों में ऐसा माना जा रहा था कि अपने कारण इतने बुजुर्ग कांग्रेसी के अपमान को देखते हुये हरवंश सिंह आयेंगें नहीं जेकिन ऐसा नहीं हुआ। राजनैतिक विश्लेषकों का मानना हैं कि हरवंश सिंह ने यह सब एक सोची समझी रणनीति के तहत किया था। उनका ऐसा मानना था कि प्रदेश भाजपा द्वारा हाल ही में प्रभारी बनाये गये गौरीशंकर बिसेन के साथ एक ही मंच पर दिखकर वे यह राजनैतिक संकेत देना चाहते थे कि नूरा कुश्ती आगे भी जारी रहेगी। वैसे यह बात भी गौर करने लायक हैं कि एक ही मंच पर आने से ना तो गौरी भाऊ ने परहेज किया और ना ही हरवंश सिंह ने। लेकिन यह जरूर देखा गया कि केवलारी के भाजपा प्रत्याशी पूर्व मन्त्री डॉ. ढ़ालसिंह बिसेन इस कार्यक्रम में शामिल नहीं थे। वैसे बताया तो यह गया कि वे अपनी अस्वस्थता के कारण शामिल नही हो पाये थे लेकिन उनका वहां ना रहना राजनैतिक हल्कों में चर्चित रहा।अब इस सब के पीछे इंका और भाजपा के इन दो महारथियों की क्या रणनीति रही? इसके बाबद अभी कुछ भी कहना सम्भव नहीं हैं। वैसे एक बात तो सर्वमान्य हैं कि ये दोनों ही नेता हरफन मौला खिलाड़ी हैं और कब किसको कौन दांव लगा कर चित कर दें ?इसकी भविष्यवाणी भी करना सम्भव नहीं हैं।





बाबा के अनशन के आस पास घूमती रही जिले की राजनीति-बाबा रामदेव के अनशन को लेकर राजनीति जिले भी गरमायी रही। एक तरफ बाबा के समर्थकों के साथ ही भाजपा के लोगों ने भी अनशन मेंं भागीदारी की हैं। भाजपा के सभी प्रमुख नेता अध्यक्ष सुजीत जैन,विधायक द्वय नीता पटेरिया और कमल मर्सकोले,पूर्व मन्त्री डॉ. ढ़ालसिंह बिसेन, पूर्व विधायक नरेश दिवाकर, संगठन मन्त्री सन्तोष त्यागी सहित संघ के प्रमुख लोगों ने भी हिस्सा लिया।इनके अलावा जिलेके प्रमुख समाजवादर नेता वरिष्ठअधिवक्ता राजेन्द्र गुप्ता एवं नरेन्द्र अग्रवाल भी अपने साथियों के साथ धरने में शामिल हुये। बाबा के कार्यक्रम में प्रमुखता से मंच पर आसीन होने वाले विस उपाध्यक्ष हरवंश सिंह ने रामलीला मैदान में सरकार द्वारा की गई कार्यवाही के बाद एक विज्ञप्ति जारी कर यह खुलासा किया कि उन्होंने बाबा को सिवनी प्रवास के दौरान उनकी समर्थक आशा सनोड़िया के निवास पर यह समझाइश दी थी कि यदि वे योग ही कराते रहेंगें तो पूजे जायेंगें और यदि राजनीति में आयेंगें तो उनकी फजीहत हो जायेगी। उनकी यहसमझाइश की बात यदि बाबा के कार्यक्रम के तुरन्त बाद आती और बाबा के समर्थक यदि उन्हें हरवंश सिंह की समझाइश मान लेने के लिये मना लेते तो ना तो केन्द्र की कांग्रेस सरकार को इतनी मशकक्त करनी पड़ती और ना ही बाबा की इतनी फजीहत होती। हरवंश सिंह के इसखुलासे के बाद जिला कांग्रेस ने भी बाबा पर तीखे हमले किये हैं वरना इसके पहले कांग्रेस की चुप्पी राजनैतिक हल्कों में चर्चित रही हैं। बाबा के रामलीला मैदान में अनशन शुरू करने के साथ ही पूरे देश में बाबा ने अपने समर्थकों को अनशन शुरू करने का आव्हान किया था और दावा किया था कि पूरे देश के 624 जिलों में एक करोड़ लोग उनके साथ अनशन करेंगें। इस हिसाब से देश के हर जिले में 16026 आदमी धरने पर बैठना चाहिये थे। लेकिन देश के किसी भी जिले में इतने लोग धरने में बैठे नहीं दिखे। इससे एक बात तो साबित हो गई हैं कि बाबा के कार्यक्रमों में लोग योग के कारण ही आते थे और जब बिना योग के लोगों का बाबा ने अनशन के लिये आव्हान किया तो सारा आयोजन पिट गया। कुछ दिन बाद जब भाजपायी और अन्य नेता हट गये तो बमुश्किल अगुंलियों पर गिने जाने लायक लोगों ने बाबा के स्वस्थ्य होने वाले यज्ञ में हिस्सा लिया। बाबा रामदेव के मुद्दे सही होने के बावजूद भी ऐसे थे जिन पर तत्काल सब कुछ करना सम्भव नहीं था और बाबा समय देने को तैयार नहीं थे। इसी कारण मामला तूल पकड़ गया और योग गुरू बाबा अनशन के छठवें दिने से बीमार हो गये।





























,गेहूँ खरीदी में किसानो का दस हजार िक्व.ज्यादा तौल कर एक करोड़ सत्ताइस लाख की रकम का हुआ गोलमाल





जांच कर दोषियों को दंड़ित करने और किसानो की रकम खाते में डलवाने की प्रशासन से अपेक्षा





सिवनी। समर्थन मूल्य पर गेहूँ खरीदी में किसानों का लगभग 10 हजार िक्वण्टल गेहूँ ज्यादा तौल कर उनका शोषण किया गया हैं। इस गेहूँ की कीमत 1 करोड़ 27 लाख रुपये होती हैं। प्रशासन से अपेक्षा है कि नागरिक आपूर्ति निगम के गोदामों में रखी बोरियों को तौल कर इस घोटाले की जांच कर दोषियों को दंड़ित करें तथा किसानों को मिलने वाली यह रकम उनके खातों में जमा करायी जाये।





उल्लेखनीय हैं कि जिले में सहकारी समितियों के माध्यम से गेहूँ खरीदी का काम किया गया था शासन द्वारा निर्धारित 31 मई तक जिले में लगभग 10 लाख िक्वण्टल गेहूँ किसानों से खरीदा गया हैं।





लगभग सभी खरीदी केन्द्रों पर किसान के गेहूँ तोलने में गोल माल किया गया हैं। हर बोरी में पचास किलो के बजाय 51 किलो से लेकर 51 किलो 300 ग्राम तक गेहूँ तौला गया हैं। बताया जाता है कि नागरिक आपूर्ति निगम के अधिकारियों का यह दवाब था कि 50 किलो की हर बोरी पर कम से कम आधा किलो की ज़िन्दा तौल कर ही लाया जाये। मानक आधार पर हर बोरी का वजन 650 ग्राम होना चाहिये था लेकिन घटिया खरीदी गई बोरियों का वजन 450 ग्राम से लेकर 500 ग्राम तक का ही था। इस तरह किसान से कम से कम 1 किलो प्रति िक्वण्टल गेहूँ अधिक तौल में लिया गया हैं। विरोध करने वाले किसानों का माल ही नहीं लिया जाता था।





जिले में हुयी 10 लाख िक्वण्टल की खरीदी में इस तरह किसान का 10 हजार िक्वण्टल ज्यादा तौला गया जिसकी कीमत 1270 रु. प्रति िक्वण्टल के हिसाब से 1 करोड़ 27 लाख रुपये होती हैं। केन्द्र सरकार द्वारा निर्धारित 1170 रु. पर राज्य सरकार द्वारा 100 रु. प्रति िक्वण्टल बोनस किसानो को दिया गया था। लेकिन इस लूट पाट के कारण किसान को हर िक्वण्टल पर कम से कम 12रु. 70 पैसे कम कीमत मिली हैं।





जिला प्रशासन से अपेक्षा है कि करोड़ो के इस घोटाले की जांच की जाये। यह भी अपेक्षा है कि प्रशासन नागरिक आपूर्ति निगम के गोदामों में बोरियों को तुलवा कर इससच का पता लगा सकते हैं जिसमें किसानो को मिलने वाली 1 करोड़ 27 लाख रुपये की राशि गोल हो गई हैं। प्रशासन से यह भी अपेक्षा हैं कि जिस किसान ने जितना गेहूँ बेचा है उसमें एक किलो गेहूँ का मूल्य जोड़ कर यह रकम उनके खातों में जमा करायी जाये और इस गोल माल करने के दोषियों के खिलाफ दंड़ात्मक कार्यवाही की जाये।



Monday, June 6, 2011

plitical dairy of seoni disst. of M.P.


इंका और भाजपा के हरफनमौला खिलाड़ियों हरवंश और गौरी भाऊ के बीच केवलारी में होने वाली जंग क्या रोचक होगी?























भाजपायी राजनीति में इन दिनों पूर्व विधायक नरेश दिवाकर और पालिका अध्यक्ष राजेश त्रिवेदी की युगलबन्दी चर्चित हैं। दोनों नेताओं को एक साथ ना केवल कई कार्यक्रमों में शिरकत करते एक साथ देखा गया हैं वरन ऐसे भी चर्चे हैं कि दोनों ही नेता एक साथ प्रदेश भाजपा के कार्यालय में भी देखें गयें हैं। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष प्रभात झा द्वारा महाकौशल के वरिष्ठ भाजपा नेता और मन्त्री गौरीशंकर बिसेन को केवलारी क्षेत्र का प्रभार दिया हैं जो कि विधानसभा उपाध्यक्ष ठा. हरवंश सिंह का निर्वाचन क्षेत्र हैं। मुख्यमन्त्री की तरह ही मरावी ने प्रभारी बनने के बाद उंहोंने भी केवलारी आने से परहेज किया था जिससे कार्यकत्ताZओं में असन्तोष था। पहले भी बिसेन और हरवंश को एक साथ खड़े देखा गया हैं। प्रभात झा और नव नियुक्त प्रभारी गौरीशंकर बिसेन को बहुत कुछ करना होगा वरना नतीजा फिर वही ढाक के तीन पात ही निकलेगा। भाजपा ने कहा हैं कि बिजली की दरों में वृद्धि प्रदेश सरकार ने नहीं वरन नियामक आयोग ने की हैं जिसे कांग्रेस सरकार ने बनाया था। यह कांग्रेस की दिग्गी सरकार का ही पाप हैं जिसे प्रदेश की जनता भोग रही हैं।जिले से एक और पुरानी उपलब्धि छिनने जा रही वह हैं एकमात्र विधि महाविद्यालय।इस मुद्दे पर भी वैसी ही राजनीति हो रही हैं जैसी करने के नेता आदी हो चुके हैं।





















नरेश राजेश जोड़ी भाजपायी हल्कों में चचििZत- भाजपायी राजनीति में इन दिनों पूर्व विधायक नरेश दिवाकर और पालिका अध्यक्ष राजेश त्रिवेदी की युगलबन्दी चर्चित हैं। दोनों नेताओं को एक साथ ना केवल कई कार्यक्रमों में शिरकत करते एक साथ देखा गया हैं वरन ऐसे भी चर्चे हैं कि दोनों ही नेता एक साथ प्रदेश भाजपा के कार्यालय में भी देखें गयें हैं। सियासी हल्कों में चर्चा हैं कि इन दोनों नेताओं के रास्त भले ही अलग अलग हों लेकिन मञ्जिल एक ही हैं और वो है सिवनी विधानसभा क्षेत्र से विधायक बनने की। इनमें से एक नरेश दिवाकर तो भूतपूर्व विधायक हैं और पुन: विधायक बनना चाहते हैं तो दूसरी ओर पालिका अध्यक्ष राजेश त्रिवेदी पालिका अध्यक्ष के बाद अगली पायदान के रूप में विधायक बनने का सपना सञ्जोये हुये हैं। वैसे अतीत में देखा जाये तो इन दोनों ही नेताओं के सम्बन्ध अच्छे नहीं रहें हैं। जब नरेश विधायक थे और राजेश युवा मोर्चे के अध्यक्ष थे तबदोनों में ही काफी तना तनी चला करती थी। ऐसा भी दावा किया जाता था कि नरेश की टिकिट कटवाने में भी राजेश की महत्वपूर्ण भूमिका थी। यहां यह भी उल्लेखनीय हैं कि वर्तमान में भाजपा की ही नीता पटेरिया ना सिर्फ विधायक हैं वरन प्रदेश महिला मोर्चे की अध्यक्ष भी हैं। अगले चुनावमें उनकी टिकिट कट ही जायेगी इसकी भी कोई गैरण्टी नहीं हैं। ऐसे में दोनों के बीच बनी यह जुगल बन्दी कितने दिन चलेगी और ना जाने कब टूट जायेगीर्षोर्षो इसके बारे में कोई ठोसदावा नहीं किया जा सकता हैं।









हरवंश के क्षेत्र के गौरी बने प्रभारी फिर शुरू हुयी चर्चायें -प्रदेश भाजपा अध्यक्ष प्रभात झा द्वारा महाकौशल के वरिष्ठ भाजपा नेता और मन्त्री गौरीशंकर बिसेन को केवलारी क्षेत्र का प्रभार दिया हैं जो कि विधानसभा उपाध्यक्ष ठा. हरवंश सिंह का निर्वाचन क्षेत्र हैं। पिछले चुनाव में कांग्रेस से हारी हुयी सीटों को जीतना भाजपा ने पहली प्राथमिकता बनायी हैं।इसके तहत पहले सरकार के मन्त्री जयसिंह मरावी को प्रभारी बनाया गया था। लेकिन मुख्यमन्त्री की तरह प्रभारी बनने के बाद उंहोंने भी केवलारी आने से परहेज किया था जिससे कार्यकत्ताZओं में असन्तोष था। इसके चलते प्रभात झा ने अब गौरीशंकर बिसेन को प्रभारी बनाया हैं। भाजपायी हल्कों में यह दावा भी किया जा रहा हें कि गौरी भाऊ खुद भी प्रभारी बनने के इच्छुक थे। राजनैतिक विश्लेषकों में इन चर्चाओं के लेकर आश्चर्य व्यक्त किया जा रहा हैं। पहले भी बिसेन और हरवंश को एक साथ खड़े देखा गया हैं। चाहे फिर वह परिसीमन का मामला हो या फिर चुनावी समीकरणों का मामला हो। दोनों ही नेताओं ने एक दूसरे के लाभ के लिये दलीय हितों को दरकिनार करने में कोई परहेज नहीं किया हैं। पिछले विधानसभाचुनाव में हरवंश की जीत और भाजपा की हार को लेकर भाजपायों ने जो आरोप चस्पा किये थे उसके कुछ छीण्टें गौरी भाऊ के दामन पर भी आये थे। वैसे राजनैतिक विश्लेषकों का यह भी मानना हैं कि बिसेन और हरवंश सिंह दोनों ही कर फल और जुगाड़ की राजनीति में माहिर हैं। वैसे दबे स्वरों में एक चर्चा यह भी हैं कि शिवराज-हरवंश सांठगांठ के किस्सों के चलते प्रभात झा ने पहले नियुक्त प्रभारी को अलग कर गौरीशंकर बिसेन को इस आशा के साथ मोर्चे पर लगाया हैं कि वे बीसें साबित होगें और केवलारी में भाजपा को जिताने के लिये सफल रणनीति बना कर राह आसान करेंगें। लेकिन क्षेत्र के समर्पित भाजपा कार्यकत्ताZ बार बार धोखा खाकर इतनेहताश होचुके हैं और उनकी यह धारणा बन चुकी हैं कि वक्त आने पर हरवंश सिंह सभी भाजपा नेताओं को पटा लेतें है और उनकी मेहनत पर पानी फिर जाता हैं। भाजपा कार्यकत्ताZओं में एक बार फिर से विश्वास पैदा करने के लिये प्रदेश भाजपा अध्यक्ष प्रभात झा और नव नियुक्त प्रभारी गौरीशंकर बिसेन को बहुत कुछ करना होगा वरना नतीजा फिर वही ढाक के तीन पात ही निकलेगा।









अब तो कांग्रेसपर दोष मढ़ने के बजाय अपनी उपलब्धि गिनाये भाजपा -प्रदेश कांग्रेस के आव्हान पर बिजली की दरों में हुयी वृद्धि को लेकर हर जिले में ब्लाक स्तर पर धरना प्रदर्शन आयोजित किया जा रहा हैं। जिले में भी यह क्रम शुरू हो चुका हैं। हालांकि जिले यह सब औपचारिक ही रहेगा क्योंकि जिले के अध्यक्षों की घोषणा ना होने से ना तो पुराने ही सक्रिय रह गये हैं और नाही नये। कांग्रेस के इस हमले का जवाब देते हुये भाजपा ने खुद कांग्रेस और दिग्गी सरकार को कठघरे में खड़ा करने का प्रयास किया हैं। भाजपा ने कहा हैं कि बिजली की दरों में वृद्धि प्रदेश सरकार ने नहीं वरन नियामक आयोग ने की हैं जिसे कांग्रेस सरकार ने बनाया था। यह कांग्रेस की दिग्गी सरकार का ही पाप हैं जिसे प्रदेश की जनता भोग रही हैं। अख्बारों में प्रकाशित समाचारों के अनुसार तो विद्युत कम्पनियों ने बिजली की दरों में 22 प्रतिशत वृद्धि करने की मांग की थी जिसे नियामक आयोगनें नहीं माना और वर्तमान में 4 से लेकर 6 प्रतिशत तक बिजली की दरें बढ़ायीं हैं। यदि ऐसा हैं तो भाजपा को इसे कांग्रेस और दिग्गी राजा का पाप मानने के बजाय पुंय मानना चाहिये जिसके कारण जनता पर 22 प्रतिशत वृद्धि का बोझ नहीं पड़ा। बिजली पानी सड़क को मुद्दा बना कर आठ साल पहले सरकार बनाने वाली भाजपा आखिर कब तक अपने पापों को कांग्रेस और दिग्गी के सिर मढ़ते रहेगी जबकि वास्तविकता तो यह हैं कि उसकी सरकार अपने ही वायदों पर खरी नहीं उतर रही हैं। भाजपा के राज में भी बिजली के बिल तो किसानों को करण्ट मार रहें हैं लेकिन तारों में करण्ट गुल रहता हैं। यदि दूसरे कार्यकाल में भी भाजपा अपनी उपलब्धियों को गिनाने की स्थिति में नहीं हैं तो यह अत्यन्त ही शर्मनाक बात हैं।









लॉ कालेज छिनने पर भी घिसीपिटी राजनीति ही हो रही है-जिले से एक और पुरानी उपलब्धि छिनने जा रही वह हैं एकमात्र विधि महाविद्यालय। बहुत संघंषोZं के बाद कालेज में लॉ फेक्ल्टी खेलने की घोषणा गेदरिंग में आये तत्कालीन शिक्षा मन्त्री माधवलाल दुबे ने की थी। सन 1981 से यह लगातार चलते रहा। लेकिन अब यह बन्द होने जा रहा हैं। इस मुद्दे पर भी वैसी ही राजनीति हो रही हैं जैसी करने के नेता आदी हो चुके हैं। प्रदेश में सरकार चलाने वाली भाजपा और उसके नेता पत्र लिखकर राज्पाल की ओर गेन्द उछाल रहे हैं तो कांग्रेस के प्रमुख नेताओं ने कोई आन्दोलन छेड़ना तो दूर अभी कुछ कहना या लिखना भी उचित नहीं समझा हैं। एक प्रश्न यह भी उठता हैं कि इतना बड़ा फैसला सरकार ने कोई एक दिन में तो लिया नहीं होगार्षोर्षोयदि लम्बे समय से यह कवायत चल रही थी तो कालेज से सम्बन्धित शासकीय कर्मचारियों ने इससे जन प्रतिनिधियों को अवगत क्यों नहीं कराया? सरकार के द्वारा फैसला लेेने के बाद ही यह मामला क्यों खुलार्षोर्षो क्या जन प्रतिनिधियों को इस बात का अहसास नहीं था कि उनके क्षेत्र और जिले से एक और चीज छीनी जा रही हैं?क्या बार कांउसिल आफ इंड़िया ने निरीक्षण फीस के रूप में एक लाख रुपये की राशि जमा करने को कहा था? यह राशि जमा की गई या नहीं? ये तमाम ऐसे सवाल हैं जिनके उत्तर जनता के सामने आना चाहिये अंयथा और भी चीजें जिले से ऐसे ही छिनती जायेंगीं।